अयोध्‍या समाचार विशेष

ayodhyasamachar

15 अगस्त को जापान के सम्राट ने आत्मसमर्पण का रेडियों पर दिया था संदेश

अयोध्या, 2 सितम्बर । । 2 सितम्बर 1945 इतिहास की वह तारीख जब जापान के विदेश मंत्री मामोरू शेगेमित्सू ने आत्मसमर्पण के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किये थे। इससे पहले 15 अगस्त को जापान के सम्राट हीरोहितो ने आत्मसमर्ण का संदेश रेडियों पर जारी किया था।


Read More
ayodhyasamachar

स्वस्थ्य पर्यावरण का सूचक है यह संकट ग्रस्त सारस पक्षी

पूराबाजार, फैजाबाद, 26 जून । सारस विश्व के उड़ने वाले पक्षियों में सबसे उंचा पक्षी है। नर एवं मादा दिखने में एक समान होते है। पर्यावरण संतुलन में इसका महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है। प्रेम तथा निष्ठा का प्रतीक सारस पक्षी के संरक्षण के प्रति यदि सरकार जल्द नहीं चेती


Read More
ayodhyasamachar

सहानूभूति के रथ पर सवार भाजपा, कैराना से मृगांका तो नूरपुर से अवनी बनी पार्ट

(Lucknow, 8 May), कैराना व नूरपुर उपचुनाव में भाजपा ने सहानुभूति को अपना पहला हथियार बनाया है। कैराना से सांसद रहे स्वर्गीय हुकुम सिंह की पुत्री मृगांका सिंह को पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है। वहीं नूरपुर सीट पर विधायक लोकेन्द्र सिंह चौहान की पत्नी अवनी सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है।


Read More
ayodhyasamachar

कश्मीर में पत्थरबाजी में चैन्नई के पयर्टक की मौत, महबूबा ने कहा सिर शर्म से ग

(Delhi, 8 May), श्रीनगर में स्थित नारबल में पत्थरबाजी के दौरान चैन्नई से आये टूरिस्ट थिरुमन सोमवार को बुरी तरह से घायल हो गये थे। जिनकी इलाज के दौरान मौत हो गयी। विपक्षी दलों ने इसे कश्मीर की मेहमाननवाजी पर धब्बा करार दिया है।


Read More
ayodhyasamachar

आज के दिन जमीन दान करने का विशेष महत्व

(Faizabad, 24 Apr), वैसाख शुक्ल पक्ष की नवमी को माता सीता का प्राकट्य हुआ था। इसे जानकी नवमी के रुप में मनाया जाता है। इस दिन शादीशुदा स्त्रियां अपने वैवाहिक जीवन की सुख शांति के लिए व्रत रखती है। सीता माता की जन्मस्थली सीतामढ़ी में जानकी नवमी पर को उनके जन्मोत्सव के रुप में मनाया जाता है। इस दौरान मंगलगीत गाये जाते है।


Read More
ayodhyasamachar

यह दावा किसी भारतीय का नहीं है यह दावा करने वाले है ब्रिटिश इतिहासकार होम्स

(Faizabad, 23 Apr), लगता है गंगा मैया आज रक्त मांग रही है। मैया आज अपनी भुजा तुझे अर्पित करता हूं। कसम है मातृभूमि की। आज दुश्मनों के रक्त से तुझे लाल कर दूंगा। आज का युद्ध का गवाह इतिहास बनेगा।


Read More
ayodhyasamachar

भगवान परशुराम व मा अन्नपूर्णा का इसी दिन है जन्मदिवस

(Ayodhya, 18 Apr), अक्षय तृतीया को सर्वसिद्ध मुहुर्त के रुप में जाना जाता है। वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया को यह पर्व मनाया जाता है। इस दिन किये गये दान व साधनाएं अक्षय फल प्रदान करती है। मांगलिक कार्यो में विवाह, गृह प्रवेश तथा नवीन वस्त्र, आभूषण खरीदने के लिए यह तिथि अति उत्तम मानी जाती है।


Read More
ayodhyasamachar

30 जनवरी 1889 को हुआ था कवि, नाटककार, लेखक जयशंकर प्रसाद का जन्म दिन

(Faizabad, 30 Jan), यवन आक्रमक सेल्यूकश की सेना आक्रमण हेतु भारत की सीमा पर पड़ाव डाले थी। तक्षशिला की राजकुमारी अलका भारत के सैनिको में उत्साहवर्धन करते हुए कहती है कि हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती, स्वयं प्रभा समुज्जवला स्वतंत्रता पुकारती।


Read More
ayodhyasamachar

बसन्त पंचमी पर विशेष - ज्ञान की देवी माँ सरस्वती का प्राकट्य अज्ञान का विनाश

(Ambedkar Nagar, 22 Jan), वससि चर्चा अज्ञानार्थे अपि भवति।तस्य एव अंतः इति कथ्यते वसन्तः।। वसि शब्द की चर्चा विद्वत वरेण्यों द्वारा अज्ञान जे भी अर्थ में होती है।माघ को भी क्वचित स्थानों पर वसि अर्थात अज्ञान कहा गया है। ऐसे में अज्ञान के माह में शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को ज्ञान की देवी माँ सरस्वती का प्राकट्य अज्ञान का विनाशक रहा।


Read More
ayodhyasamachar

जाने कैसे करे बसंत पंचमी पर मॉ सरस्वती का पूजन

(Ayodhya, 21 Jan ) माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी को वसन्त पंचमी के रूप में मनाया जाता है। वर्श 2018 में 22 जनवरी को बसंत पंचमी पड रही है। बसत पंचमी के दिन भक्त माता सरस्वती की प्रसन्नता पूजन अर्चन करते है। और मॉ सरस्वती से अज्ञान रूपी अंधकार को दूर करने की प्रार्थना करते है।


Read More
ayodhyasamachar

भगवान अगस्त मुनि ने आकाश से आकर राम को दिया था आदित्य हृदय स्तोत्र का ज्ञान

(Ayodhya, 15 Jan), रावण के साथ संग्राम के अंतिम चरण में भगवान राम ने आदित्य हृदय स्तोत्र के द्वारा भगवान सूर्य की उपासना की थी। भगवान अगस्त मुनि ने इस गोपनीय स्तोत्र को राम को बताया था। युद्ध के दौरान थक चुके राम को स्तोत्र ने उर्जा प्रदान की।


Read More
ayodhyasamachar

दान करने से मिलेगा विशेष फल, हर राशि के अगल दान का है प्राविधान

(Ayodhya, 12 Jan), पंडित देवमित्र पाण्डेय हरे दरवाजे वाले ने इस बार मकर संक्रान्ति के विषय में जानकारी देते हुए बताया कि जब सूर्य मकर राशि पर होकर उत्तरायण हो जाता है तो संक्रान्ति का पर्व मनाया जाता है। सूर्य एक मात्र प्रत्यक्ष देवता है। मकर संक्रान्ति पर सुबह 7.21 बजे से शाम 5.49 मिनट तक पुण्य काल रहेगा।


Read More
ayodhyasamachar

संत बताते है कि मीर बांकी ने इन विग्रहो को किया था सरयू में प्रवाहित जो हुए थे

(Ayodhya, 8 Jan), सरयू तट स्थित कालेराम मंदिर। यहां स्थापित भगवान के विग्रह धार्मिक दृष्टि से जितने महत्वपूर्ण है उनकी ऐतिहासिक प्रसिद्धि भी उतनी ज्यादा है। मंदिर के व्यवस्थापको व संतो के अनुसार दो हजार वर्ष पूर्व राजा विक्रमादित्य ने अयोध्या अयोध्या की पुर्नस्थापना कर रामजन्मभूमि पर जिस श्रीरामपंचायतन के जिस विग्रह की स्थापना की थी।


Read More
ayodhyasamachar

नवदुर्गा के सिद्धि और मोक्ष देने वाला स्वरूप है सिद्धिदात्री

नवदुर्गा के सिद्धि और मोक्ष देने वाले स्वरूप को सिद्धिदात्री कहते हैं। सिद्धिदात्री की पूजा नवरात्र के नौवें दिन की जाती है। देव, यक्ष, किन्नर, दानव, ऋषि-मुनि, साधक और गृहस्थ आश्रम में जीवनयापन करने वाले भक्त सिद्धिदात्री की पूजा करते हैं। इससे उन्हें यश, बल और धन की प्राप्ति होती है।


Read More
ayodhyasamachar

आठवीं नवदुर्गा के रूप में पूजित है महागौरी

नवरात्र के आठवें दिन महागौरी की पूजा करने के विधान है। इस दिन मां की पूजा विधि-विधान के साथ करने से सभी परेशानियों से मुक्ति मिल जाती है। इतना ही नहीं अगर आपके शादी होने में किसी भी तरह की रुकावट आ रही है, तो इस दिन उन लोगों को जरुर पूजा करनी चाहिए।


Read More
ayodhyasamachar

संसार में कालों का नाश करने वाली देवी ही है 'कालरात्री'

नवरात्री के सातवें दिन मां दुर्गा के कालरात्रि रूप की पूजा की जाती है। ये काल का नाश करने वाली हैं, इसलिए यह कालरात्रि कहलाती हैं। नवरात्रि के सातवें दिन इनकी पूजा और अर्चना की जाती है। संसार में कालों का नाश करने वाली देवी 'कालरात्री' ही है। कहते हैं इनकी पूजा करने से सभी दु:ख, तकलीफ दूर हो जाती है।


Read More
ayodhyasamachar

नवदुर्गा का छठां रूप है माता कात्‍यायनी

नवरात्रि के छठे दिन आदिशक्ति श्री दुर्गा के छठे रूप कात्यायनी की पूजा-अर्चना का विधान है। महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिया था। इसलिए वे कात्यायनी कहलाती हैं।


Read More
ayodhyasamachar

आराधना से प्रसन्‍न होकर सुख-शांति देती है स्‍कंदमाता

श्री दुर्गा का पंचम रूप श्री स्कंदमाता हैं। श्री स्कंद (कुमार कार्तिकेय) की माता होने के कारण इन्हें स्कंदमाता कहा जाता है। नवरात्रि के पंचम दिन इनकी पूजा और आराधना की जाती है। इनकी आराधना से विशुद्ध चक्र के जाग्रत होने वाली सिद्धियां स्वतः प्राप्त हो जाती हैं।


Read More
ayodhyasamachar

आयु, यश, बल व धन प्रदान करती है मॉ कूष्‍मांडा

नवरात्र में चतुर्थ दिन माँ कूष्मांडा की पूजा होती है जिससे आयु, यश, बल व धन प्राप्त होता है नवरात्रि में हर दिन मां के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है जो खुशी, शांति, शक्ति और ज्ञान प्रदान करते हैं।माँ कूष्मांडा को प्रसन्न करने के लिए इस श्लोक का जाप करना चाहिए।


Read More
ayodhyasamachar

मां चंद्रघंटा साधकों को देती है वीरता और निर्भयता का वरदान

नवरात्र के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होती है। मां का यह रूप बेहद ही सुंदर, मोहक और अलौकिक है। चंद्र के समान सुंदर मां के इस रूप से दिव्य सुगंधियों और दिव्य ध्वनियों का आभासहोता है। मां का यह स्वरूप परम शांतिदायक और कल्याणकारी है।


Read More
ayodhyasamachar

अनंत कोटि फल प्रदान करने वाली मां ब्रहचारिणी मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। मां दुर्गा के उपासक और भक्त को अनंत कोटि फल प्रदान करने वाली मां ब्रहचारिणी मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा स्वरूप है। माता ब्रह्मचारिणी का स्वरुप बहुत ही सात्विक और भव्य है। यहां ब्रम्ह का अर्थ तपस्या से है।


Read More
ayodhyasamachar

वन्दे वांछितलाभाय चन्दार्धकृतशेखराम, वृषारूढां शूलधरां शैल

(Aalapur, Ambedkar Nagar, 21 Sep), नवरात्रि पूजन के पहले दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप माता शैलपुत्री का पूजन किया जाता है। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वत राज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा।


Read More
ayodhyasamachar

हाथ भागवत गीता, चेहरे में मुस्कान, मात्र 19 वर्ष उम्र में फांसी चढ़ गये खुदीराम

(Ayodhya, 11 Aug), यहां शहीदो की पावन गाथाओं को अपमान मिला, डाकू ने खादी पहनी तो संसद में सम्मान मिला। हम अगर वर्तमान शिक्षा प्रणाली पर नजर डाले तो डा हरिओम पवार की यह कविता एक चरितार्थ होती है। गुलाम भारत और एक 19 साल का बालक। जिसको ब्रिटिश हकूमत ने फांसी दे दी। जिसकी दहशत मौत के बाद भी कायम रही।


Read More
ayodhyasamachar

देर शाम जयश्रीराम के नारे के साथ गर्भ गृह को घेर कर खड़ी हो गयी थी दुर्गा वाहिन

(Ayodhya, 29 Apr), 6 दिसम्बर 1992, शाम 5 बजे तक विवादित ढांचा जमीदोंज हो चुका था। केन्द्रीय पुलिस बल अयोध्या में प्रवेश कर रही थी। विहिप के रामलला के मूर्ति की स्थापना और इसके रोजाना पूजन की चिंता थी। कारसेवक अयोध्या से निकल रहे थे। विहिप ने अब जिम्मेदारी दुर्गा वाहिनी को सौपी।


Read More
ayodhyasamachar

6 दिसम्बर 1992 इतिहास की बड़ी तारीख, अखबारों ने जारी किये थे स्पेशल बुलेटन

(Ayodhya, 26 Apr), 6 दिसम्बर 1992, दुनिया के इतिहास की किताब में बड़ी घटनाओं जिक्र हो तो यह तारीख अहम होगी। अयोध्या में इन दिन जो हुआ उसने राजनीति बदल दी। विहिप व उसके अनुशांगिक संगठनों ने कारसेवा का ऐलान किया था। प्लान बताया गया था कि कारसेवक मंदिर बनाने के लिए चबूतरे की सफाई करेंगे।


Read More
ayodhyasamachar

राम के साथ खेलते होली, मनाते है दीवाली, बहने बांधती है रक्षा बंधन,

(Ayodhya, 6 Apr), रामनगरी अयोध्या। यहां रोम रोम में राम बसे है। भोजन नहीं है तो राम को याद कर लो। बच्चे की फीस देनी है तो राम से मांग लो। पहनने को वस्त्र नहीं तो राम से जिद कर लो। अभिवादन में भी यहां राम राम है और अंतिम यात्रा में भी रामनाम सत्य है।


Read More
ayodhyasamachar

23 मार्च 1931 इतिहास की तारीख, सदी की सबसे बड़ी गौरव गाथा, आपको याद है

(Faizabad, 23 Mar), 23 मार्च 1931 की तारीख और सदी की सबसे बड़ी गौरव गाथा। भगत सिंह, सुखदेव व राजगुरु का बहता लहू कह रहा था इलाही वह भी दिन होगा जब अपना राज्य देखेंगे। जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा। ऐसे अमर शहीदों के यश का गुणगान जब कानों को नहीं सुनायी देता तो ऐसा लगता है


Read More
ayodhyasamachar

लंदन में आयोजित समारोह में कर्जन वायली के चेहरे पर दागी थी चार गोलियां

(Faizabad, 6 Mar), 1 जुलाई 1909 लंदन ! यहां इंडियन नेशनल एसोसिएशन के द्वारा वार्षिक समारोह आयोजित था। भारी संख्या में भारतीय और अंग्रेज मौजूद थे जो कर्जन वायली के आने का इंतजार कर रहे थे। सभा में मौजूद एक युवक की आंखे लगातार अंग्रेजो की घूर रही थी। इसी बीच कर्जन वायली ने सभा के हाल में प्रवेश किया।


Read More
ayodhyasamachar

जरा याद इन्हें भी कर लो पार्ट -1, क्यों नहीं की जाती इतिहासकारों द्वारा इनकी च

(Ayodhya , 5 Mar), जिसे बिटिश सरकार सबसे बड़ा खतरा मानती थी। क्रांति की चिंगारी को फैलाने के लिए जिसने अपनी पोस्टल सर्विस चलायी थी। कूका आन्दोलन में शामिल 12 वर्ष के बालक विशन सिंह ने अंग्रेज कमान्डर को अपनी शक्ति का ऐसा नजारा दिखाया जो इतिहास के पन्ने में अमर है।


Read More
ayodhyasamachar

कथाओं के अनुसार 2 मार्च को 1568 को घटी थी यह घटना

(Ayodhya, 2 Mar), पायो जी मैने रामरतन धन पायो, मनमोहक कान्हा विनती करु मेंरे रैन, मतवारे बादल आयो रे हरि को संदेशो कछु नहीं लायो रे जैसी रचनाओं से पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाने वाली मीराबाई के बारें कई कहानियां प्रसिद्ध है।


Read More
ayodhyasamachar

लिव इंन रिलेशन की खिलाफत करते थे संत वैलेन्टाईन के संदेश, विवाह के करते थे प्

(Faizabad, 13 Feb), वर्तमान समय में वैलेन्टाईन डे को लोग विवाह पूर्व के सम्बंधो की पहल के रुप में लेते है। वास्तविकता यह है कि संत वैलेन्टाईन ने वैवाहिक जीवन से होने वाले लाभ की शिक्षा देने और समाज को इसके लिए प्रेरित करने के लिए संघर्ष किया।


Read More
ayodhyasamachar

संत रविदास के संदेश आज भी विश्व को देते है प्रेरणा, शिक्षाप्रद है इनकी पूरी ज

(Ayodhya, 10 Feb), संत शिरोमणि रविदास का पूरा जीवन एक प्रेरक प्रसंग के समान है। ईश्वर के प्रति अगाध भक्ति रखने वाले संत रविदास ने मानवता को ज्ञान का संदेश देने के लिए कई चमत्कार भी दिखाये। रविदास को अध्यात्मिक रुप से प्रबुद्ध और महान समाजसुधारक के रुप में जाना जाता है।


Read More
ayodhyasamachar

लाखो की फौज के सामने 100 से भी कम सैनिक, घंटो चला युद्ध

(Faizabad, 2 Jan), दुनिया की सबसे दुर्लभ लड़ाई ! एक ओर सौ से भी कम सैनिकों के साथ दो बालक और दूसरी तरफ लाखो की फौज। संग्राम भीषण हुआ। लाखो की फौज घंटो आगे नहीं बढ़ पायी। गुरु गोविन्द सिंह के सपूतो ने इतिहास रच दिया। मृत्यु के आगोश में आने से पहले दोनो सपूत अपनी वीरता की चर्चा दुश्मनों को करने पर मजबूर कर चुके थे।


Read More
ayodhyasamachar

सिंहासन बदला, सरकारें बदली पर नहीं बदले तो इनके हालात

(Faizabad, 31 Dec), नये साल का जश्न है। चुनाव सिर पर है। सबके अपने दावे है। परन्तु यहां कुछ ऐसे भी है जिनके हालात पीढ़ियो से वैसे ही है। इनके लिए योजनाएं आयी तो बहुत, पर जमीन तक पहुंचने में कहां गायब हो गयी पता ही नहीं चला। अब हालात ऐसे है कि लोग त्यौहारो पर जश्न मनाते है और ये अपने परिस्थितियों पर रोते रहते है।


Read More
ayodhyasamachar

वहां के राजा सुरो के साथ किया था विवाह, महारानी हो के नाम हुई विख्यात

(Ayodhya, 1 Dec), करीब दो हजार वर्ष पहले अयोध्या की राजकुमारी सुरीरत्ना कोरिया पहुंची थी। उनके कोरिया जाने का कारण स्पष्ट नहीं है। किवदंतियों के अनुसार वे अपने पिता के कहने पर कोरिया वहां के राजा से विवाह करने गयी थी। कुछ के अनुसार वे बौद्ध धर्म का प्रचार करने के लिए कोरिया गई थी।


Read More
ayodhyasamachar

दीप ज्योति:परमब्रम्ह दीप ज्योति:जनार्दन:।दीप ज्योति:लक्ष्मी बस,संध्या देवी

दीपक ज्ञान का प्रतीक है ज्ञान उसी प्रकार अज्ञानता से मुक्ति दिलाता है जैसे रोशनी अंधकार से।ज्ञान से हमारी अंतरात्मा समृद्ध होती है जिससे हमें बाहरी उपलब्धि मिलती है इसलिए हम दीपक जलाकर ज्ञान को प्रणाम करते हैं जो समस्त समृद्धि का कारक है ।


Read More
ayodhyasamachar

पुराणों में भी मिलता है उल्लेख

(Ayodhya 21 Oct), सीताराम विवाहोपरांत श्री सीता जी अपने साथ सर्वमंगला पार्वती के विग्रह को अयोध्या लेकर आईं। जिसे राजा दशरथ ने सप्तसागर के ईशानकोण पर भव्य मंदिर का निर्माण कर ईशानी देवी के नाम से श्री पार्वती को स्थापित किया।


Read More
ayodhyasamachar

अवसि देखियहिं देखन जोगू

(Ayodhya), अयोध्या में दशरथ जी का राजमहल सिद्ध पीठ है। जो देखरेख न होने के कारण खण्डहर बन चुका था। सिद्ध सन्त बाबा श्रीरामप्रसादाचार्य जी महराज ने यहां पुनः मंदिर की स्थापना की तथा वर्तमान स्वरुप प्रदान किया। यहां श्री वैष्णव परम्परा की प्रसिद्ध पीठ एवं विन्दुगादी की सर्वोच्च पीठ बड़ा स्थान मौजूद है।


Read More
ayodhyasamachar

रामनगरी अयोध्या दशरथ के राजमहल के दर्शन हेतु बड़ा स्थान में उमड़ती है श्रद्धा

(Ayodhya), राघवेन्द्र सरकार के जिस मोहक रुप का वर्णन पूरे संसार में किया जाता है उसकी छवि का दर्शन करने के लिए चक्रवर्ती महराज दशरथ के राजमहल में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती रहती है। विंदुगाद्याचार्य महान्त देवेन्द्र प्रसादाचार्य जी के सानिध्य में दशरथ राजमहल,


Read More
ayodhyasamachar

कौन- कौन से त्‍योहार हैं मार्च 2016 में

(2 MAR) अयोध्‍या। भारत वर्ष विविधताओं का देश है। हर माह कई धर्मों के त्‍योहार मनाये जाते है। जाने 2016 में कौन-कौन से तयोहर किन अंग्रेजी तारीखों को पड रहे हैं।


Read More
ayodhyasamachar

राम तथा अन्य भाईयों के भी थे दो-दो पुत्र

अयोध्या। वैवस्तव मनु के कुल दस पुत्र थे। जिनमें आठवें पुत्र का नाम इक्ष्वाकु था। इक्ष्वाकु के द्वारा ही कौशल नगरी बसाई गयी थी जिसकी राजधानी का नाम अयोध्या था। इक्ष्वाकु के वंश में अज तथा उनके पुत्र राजा दशरथ हुए। राजा दशरथ के ही पुत्र राम लक्ष्मण, भरत तथा शत्रुघन हुए।


Read More
ayodhyasamachar

भगवान राम तथा माता सीता का निज भवन था कनक भवन

अमित मिश्र, अयोध्‍या समाचार

 भगवान राम तथा माता सीता का निज भवन था कनक भवन संतों का अनुभव है कनक भवन में भगवान श्रीराम-जानकी करते है भ्रमण भगवान राम तथा माता सीता का निज भवन जिसे कनक भवन के नाम से जाना जाता वह परम दिव्यता, शक्ति और सौन्दर्य का प्रतीक हैं। 


Read More
ayodhyasamachar

“ घोटी तख्ती सत्तर पार, छूटी कलम की थी दरकार

फैजाबाद ।  कम्प्यूटर, टैबलेट, लैपटॉप, कैल्कुलेटर वाला दौर देख रहे बच्चों को पता नही पहले लिखते और पढ़ने की क्या पद्धति थी और कौन- कौन से साधन थे 


Read More
ayodhyasamachar

वर्ष 1967 राजनितिक दलों में टूटन के सूत्रपात

फैजाबाद। आजादी के बाद पूरी रफ्तार से दौड रहे कांग्रेस के रथ को पहली बार 1967 में उत्तर प्रदेश में चौधरी चरण सिंह ने रोक दिया था। दलीय टूटन के बाद चौधरी चरण सिंह ने नई पार्टी भारतीय क्रांति दल बनाया था। 


Read More
ayodhyasamachar

चार सौ छियासी वर्षों से चल रहा है विवाद

अयोध्या/फैजाबाद। अयोध्या ने बीते चार सौ छियासी वर्षो से केवल राजनीति का वो दौर देखा है जिसमें अपने ही अपनों के दुशमन बनते रहे। इस दौरान किसी को कुछ मिला हो या न मिला हो परन्तु अयोध्या को केवल अशांति का वातावरण ही मिला है। 


Read More
ayodhyasamachar

पढे और जाने पावन सलिला सरयू के बारे में

सरयू नदी के बारें में धामिक मान्यता यह है कि वे भगवान श्रीराम की बाल लीला का दर्शन करने के लिए पृथ्वी पर अवतरित हुई थी। कई पौराणिक आख्यान यह बताते है कि सरयू का अवतरण गंगा से पहले हुआ था। सरयू जल को सक्षात ब्रहम स्वरुप बताया जाता है। 


Read More
ayodhyasamachar

जानें अंग्रेजों की चूले हिलाने वाले मौलवी अहमदुल्लाह के बारे में

फैजाबाद। अंग्रेजी हकूमत के बारें कहा जाता था कि उसके शासन में सूरज कभी नहीं डूबता था। परन्तु जनपद फैजाबाद की धरती एक ऐसे की गाथा कहती है जिसने इसी जनपद में बिटानिया हकूमत का सूरज डुबोया ही नहीं बल्कि उसे अपने कब्जे में एक साल के लिए रखा। 


Read More
ayodhyasamachar

जब फैजाबाद के छात्रों ने आजाद भारत की संसद में फेंका था परचा

फैजाबाद। छात्रों के आन्दोलन ने सदा विश्व एक नयी दिशा दी है। फैजाबाद में विश्वविद्यालय की मांग को लेकर सत्तर तथा अस्सी के दशक में कुछ ऐसे आन्दोलन हुए जिन्होने सत्ता के सिंहासन को हिला दिया। जनपद के छात्रों ने सड़क से संसद कुछ ऐसा करिश्मा किया कि उस समय एक बेहद ताकतवर प्रधानमंत्री मानी जाने वाली इंदिरा गांधी भी झुक गयी। 


Read More
ayodhyasamachar

फैजाबाद अपनी विविधताओं के लिए हमेशा से ही लोकप्रिय

उत्तर प्रदेश के नक्शे पर पूर्वी ओर राजधानी लखनऊ से करीब 130 किमी पूरब स्थित फैजाबाद अपनी विविधताओं के लिए हमेशा से ही लोकप्रिय रहा है। शहर के उत्तरी छोर पर पावन सलिला सरयू इसके सौन्दर्य को चार चांद लगा रही है। 


Read More
ayodhyasamachar

असंख्य शिवभक्तों की आस्था एवं श्रद्धा का केन्द्र

अयोध्या की प्राण वायु समान सरयू की अविरल धारा के समीप मात्र 150 मी की दूरी पर स्थित भगवान शिव का यह शिवालय असंख्य शिवभक्तों की आस्था एवं श्रद्धा का केन्द्र है।


Read More